• Decrease font size
  • Return font size to normal
  • Increase font size
U.S. Department of Health and Human Services

Food

  • Print
  • Share
  • E-mail

खाद्य सुरक्षा आधुनिकीकरण अधिनियम: निवारण पर ध्यान संकेन्द्रण

In English


Администрация по делам продовольствия и медикаментов (FDA) предлагает этот перевод как услугу для широкой международной аудитории. Мы надеемся, что этот перевод окажется полезным для Вас. Хотя наше ведомство стремилось к тому, чтобы сделать перевод, наилучшим образом передающий значение оригинала на английском языке, мы, тем не менее, признаем, что перевод может быть не таким точным, ясным и полным, как оригинал на английском языке. Поэтому официальной версией этого документа является его версия на английском языке.

 

द्वारा: मार्गरेट ए हैमबर्ग, एम डी, खाद्य एवम् औषध कमिश्नर

 
खाद्य सुरक्षा आधुनिकीकरण अधिनियम पर राष्ट्रपति के हस्ताक्षर होने से भी पहले, इस विधेयक के पारित होने से ही हमारे राष्ट्र की खाद्य सप्लाई की हिफ़ाज़त और सुरक्षा में व्यापक सुधारों के सिलसिले की शुरूआत हो गई.

हर वर्ष, खाद्य-जनित रोग 48 मिलियन अमेरिकियों को अपना शिकार बनाते हैं, एक लाख लोगों को अस्पतालों में दाखिल होना पड़ता है और हज़ारों की मौत हो जाती है. मैं राष्ट्रपति महोदय और संसद सदस्यों को यह बात समझने के लिए कि खाद्य-जनित रोग अमेरिकी लोगों पर अत्यधिक बोझ डालते हैं, और यह क़दम उठाने के लिए धन्यवाद देती हूं.

राष्ट्रपति महोदय ने जिस ऐतिहासिक विधेयक पर हस्ताक्षर किये हैं वह खाद्य एवं औषधि प्रशासन को यह आदेश देता है कि वह, व्यापक रूप से सार्वजनिक और निजी साझेदारों के साथ काम करते हुए, खाद्य सुरक्षा पर निगरानी रखने की एक नई प्रणाली निर्मित करे -- जो उन समस्याओं को रोकने के लिए जो लोगों को बीमार कर सकती हैं, सर्वोत्तम उपलब्ध विज्ञान और अच्छी सामान्य समझ-बूझ का पहले किसी भी समय के मुक़ाबले अधिक व्यापक उपयोग करने पर सकेन्द्रित हो.

निवारण का विचार नया नहीं है. एफ़डीए ने समुद्री-भोज्य, रस, और अंडों के लिए निवारण-अभिमुख मानक और नियम स्थापित किए हैं, जैसेकि अमेरिका के कृषि विभाग ने मांस और मुर्गियों के बारे में किए हैं, और खाद्य उद्योग में ऐसे बहुत से हैं जिन्हों ने निवारण के लिए “सर्वोत्तम व्यवहारों” में अगुआई की है. जो नया है वह है इसे मान्यता देना कि अमेरिकी खाद्य प्रणाली की समस्त मज़बूतियों के बावजूद, खेत से खाने की मेज़ तक की लम्बी कड़ी में किसी भी बिंदु पर विघटन उपभोक्ताओं के स्वास्थ्य के लिए भयंकर हानि और खाद्य उद्योग के लिए बड़ी अस्त-व्यस्तता तथा आर्थिक नुक़सान पैदा कर सकता है.

लिहाज़ा, हमें खाद्य प्रणाली को सम्पूर्ण रूप में देखना होगा, उसके हर भागीदार की खाद्य सुरक्षा ज़िम्मेदारी को स्पष्टता से समझना होगा, और घरेलू तथा अंतर्राष्ट्रीय -- सम्पूर्ण खाद्य प्रणाली में निवारण के लिए उत्तरदायित्व को सशक्त बनाना होगा. यह नया क़ानून अनेक तरीक़ों से इन आवश्यकताओं को पूरा करता है.
मिसाल के तौर पर, हर तरह के भोजन को संशोधित करने वालों के लिए अब यह ज़रूरी होगा कि वे अपने काम के जोखिमों का मूल्यांकन करें, संदूषण रोकने के कारगर उपाय लागू करें और उन पर निगाह रखें, और जो भी दोष-निवारक उपाय आवश्यक हों उन्हें लागू करने की पहले से योजना बना कर रखें. साथ ही एफ़डीए के पास यह सुनिश्चित करने के लिए कहीं अधिक प्रभावी प्रवर्तन औज़ार होंगे कि वे योजनाएं पर्याप्त हों और समुचित ढ़ंग से लागू की जाएं और इनमें आवश्यकता पड़ने पर खाद्य पदार्थों को वापस लेने का बाध्यकारी अधिकार भी शामिल है ताकि संदूषित खाद्य सामग्री को मंडी से शीघ्रता से हटाया जा सके.

हम, क़ानून के अनुरूप, फलों और सब्ज़ियों के सुरक्षित उत्पादन और फ़सल-कटाई के विज्ञान-आधारित मानक स्थापित करेंगे ताकि गम्भीर रोगों अथवा मौत के जोखिम को न्यूनतम किया जा सके, और हम खाद्य पदार्थों के सुरक्षित परिवहन के मानक स्थापित करेंगे.
इसके अतिरिक्त, इस क़ानून पर हस्ताक्षर हो जाने से, पहली बार एफ़डीए को खाद्य संसाधन सुविधाओं का जोखिम-आधारित निरीक्षण करने के लिए संसदीय आदेश प्राप्त हो जायेगा. उदाहरण के लिए, उच्च जोखिम वाली सभी घरेलू सुविधाओं का क़ानून बनने के पांच वर्ष के भीतर निरीक्षण किया जाना होगा और उसके बाद कम से कम हर तीन वर्ष बाद.

यह विधेयक हर वर्ष अन्य देशों से अमेरिका आने वाले लाखों खाद्य उत्पादों पर निगरानी रखने की एफ़डीए की क्षमता को महत्वपूर्ण रूप से बढ़ा देता है. सुधारों में यह आदेश भी शामिल है कि आयातक अपने सप्लायरों से आने वाले खाद्य पदार्थों की सुरक्षा सत्यापित करें और एफ़डीए को यह अधिकार प्राप्त होगा कि जो सुविधाएं या देश हमारे निरीक्षण को स्वीकार नहीं करते उनसे खाद्य पदार्थों का आना रोक दे. एफ़डीए विदेशी सरकारों के साथ अधिक निकटता से कार्य करेगा और विदेशी खाद्य सुविधाओं का अपना निरीक्षण बढ़ाएगा. एफ़डीए को आयात के मामले में जो नये औज़ार प्रापत हुए हैं उनका खाद्य सुरक्षा पर भारी प्रभाव पड़ेगा क्योंकि अमेरिका की खाद्य सप्लाई का अनुमनत: 15 प्रतिशत आयात किया जाता है, जिसमें 50 प्रतिशत ताज़े फल, 20 प्रतिशत ताज़ी सब्ज़ियां और 80 प्रतिशत समुद्री-भोज्य शामिल हैं.

यह भी बहुत महत्वपूर्ण है कि एफ़एसएमए यह मांग करता है कि सभी खाद्य सुरक्षा एजेंसियों के बीच चाहे वे संघीय, राज्यीय, स्थानीय, प्रादेशिक, क़बायली या विदेशी कोई भी हों, मौजूदा सहयोग को और मज़बूत बनाया जाए. अन्य प्रावधानों के साथ साथ, यह विधेयक स्वास्थ्य एवं मानव सेवा सचिव को यह आदेश देता है कि राज्यीय, स्थानीय, प्रादेशिक, और क़बायली खाद्य सुरक्षा अधिकारियों के प्रशिक्षण को बेहतर बनाया जाए और प्रशिक्षण, निरीक्षण करने, खाद्य सुरक्षा कार्यक्रमों और प्रयोगशालाओं की क्षमता बढ़ाने, तथा अन्य खाद्य सुरक्षा गतिविधियों के लिए अनुदानों का प्राधिकार देता है. इन खाद्य सुरक्षा साझेदारों की क्षमता बढ़ाना तथा उसका अधिक लाभ उठाना ही वह तरीक़ा है जिससे हम अच्छी तरह गुथी हुई राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा प्रणाली प्राप्त कर सकते हैं जो अधिक से अधिक प्रभावी और कार्यकुशल हो.

अब यह एफ़डीए का काम है कि हमें जो निर्देश दिया गया है हम उस पर अमल करें. हम यह योजना बनाने में पूरी तरह लगे हुए हैं कि हम इस क़ानून को कैसे अमल में लायेंगे. इस विधेयक में जिन सुधारों की मांग की गई है, जब हम उन पर निगाह डालते हैं तो हमें अपने आप से अनेक सवाल करने होंगे. क्या संसाधन पहले ही हमारे पास मौजूद हैं? किन संसाधनों की हमें आवश्यकता होगी? वे संसाधन कहां से आएंगे? यह बात हम पहले से ही जानते हैं कि नई आवश्यकताओं की क़ीमत चुकाने के लिए विधेयक में पर्याप्त शुल्क संसाधन शामिल नहीं किए गए हैं. इसके लिए हम संसद पर निर्भर करेंगे कि वह हमारे साथ मिलकर काम करें ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि हमारे साझे खाद्य सुरक्षा तथा खाद्य रक्षा के लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए जो कुछ ज़रूरी है वह एफ़डीए के पास हो.

यह क़ानून अमेरिका में खाद्य सुरक्षा के लिए एक बड़े परिवर्तन का प्रतिनिधित्व करता है, और निवारण पर नया ध्यान केन्द्रित करता है, और मुझे आशा है कि आने वाले वर्षों में खाद्य सप्लाई की सुरक्षा पर इसका नाटकीय तथा सकारात्मक प्रभाव होगा.